State Bank of Mysore

Trusted Service

जमाएं

स्टेट बैंक़ ऑफ मैसूर के वैयक्तिक बैंकिंग में आपका स्वागत है।

हम आपकी सारी अपेक्षाएं पूरी करेंगे।  आपके आधिक्य या कष्टार्जित धन के निवेश हेतु उपयुक्त योजना के लिए हमारी नजदीक की शाखा से संपर्क करें।  हमारी किसी भी शाखा में खाता खोलिए और हमारी विस्तृत शाखा जाल का लाभ उठाइए।  आपके धन को पूर्ण विश्वास के साथ व सुरक्षित रूप से निश्चित जमाओं में निवेश कर अधिक ब्याज कमाएं।

मैबैंक संचय

1

उत्पाद का नाम

मैबैंक संचय बचत बैंक खाता

2

प्रयोजन

ग्राहकों को एक विशेष बचत जमा उत्पाद प्रदान करना

3

खंड

वैयक्तिक खंड

4

योग्यता

केवल निवासी( एकल या संयुक्त)

5

खाता का प्रकार

बचत बैंक खाता

6

खाता खोलने की प्रक्रिया

बचत बैंक खाता को लागू। वर्तमान निर्देशों के अनुसार के वाई सी मानकों का पालन।

7

पर उपलब्ध

बैंक के सभी शाखाओं पर

8

जमा राशि

औसत तिमाही निम्नतम शेष

क)    ग्रामीण शाखाओं के लिए रू.5,000/-

ख)    अर्ध-शहरी एवं शहरी शाखाओं के लिए रू.10,000/-

ग)     मेट्रों शाखाओं के लिए रू.20,000/-

अगर तिमाही शेष राशि नहीं रखी जाती है,तो खाता को सामान्य बचत बैंक खाता में परिवर्तित किया जाता है।मैंबैंक संचय में उपलब्ध सभी मूल्य वर्धित लाभों का आहरण किया जाएगा ।

9

ब्याज की दर

सामान्य बचत बैंक खाता को लागू

10

आयु

10 वर्षों से ऊपर

11

अतिरिक्त विशेषताएँ

i)50 लीफों का चेकबुक नि:शुल्क,

ii)स्टेट बैंक गोल्ड अंतर्राष्ट्रीय डेबिट कार्ड को नि:शुल्क जारी करना,

iii) गोल्ड अंतर्राष्ट्रीय डेबिट कार्ड लेने वाले के लिए रू.5 लाख का नि:शुल्क दुर्घटना बीमा,

iv) ऎसे व्यक्ति जो निम्नतम औसत तिमाही शेष > रू.50,000/-$ रखनेवालों को नि:शुल्क प्लेटिनम अंतर्राष्ट्रीय डेबिट कार्ड,

v) प्लेटिनम अंतर्राष्ट्रीय डेबिट कार्ड रखने वालों के लिए रू 5 लाख का नि:शुल्क दुर्घटना बीमा,

vi) ऎसे लोग जिन्होंनें गोल्ड कार्ड/प्लेटिनम कार्ड नहीं लिया है,उनके लिए रू.1.00 लाख का नि:शुल्क दुर्घटना बीमा,

  1. सभी गोल्ड अंतर्राष्ट्रीय कार्ड लेनदेनों के लिए त्वरित एस एम एस एलर्ट,

 

  1. एस एम एस एलर्ट प्रति तिमाही रू.15/- के शुल्क पर,

 

  1. स्टेट बैंक समूह में असीमित लेनदेन,
  2. शेष प्रमाणपत्र प्रभार(चालू वर्ष)- नि:शुल्क
  3. आर टी जी एस/एन ई एफ टी- नि:शुल्क -2 प्रति माह,
  4. आनलाईन एस बी खातें खोलने का प्रावधान,
  5. अंतर्राष्ट्रीय बैंकिंग सुविधा,
  6. इंटरनेट बैकिंग सुविधा,
  7. मोबाईल बैंकिंग सुविधा,
  8. ई-विवरणी का प्रावधान,
  9. स्टेट बैंक प्लेटिनम अंतर्राष्ट्रीय डेबिट कार्ड के लिए रू.1,00,000/- तथा स्टेट बैंक गोल्ड अंतर्राष्ट्रीय डेबिट कार्ड के लिए रू.50,000/- से ए टी एम पर दैनिक नकद आहरण की अनुमति है।

  • डेबिट कार्ड के जारी होने के पश्चात ही ग्राहकों को बीमा सुरक्षा में आवर्त किया जाएगा।
  • पी ओ एस एवं ऑनलाईन लेनदेन के लिए डेबिट कार्ड का उपयोग करने पर ल्वायलिटी प्वाइंट मिलेंगें।

 

 

मैबैंक संचय

1

उत्पाद का नाम

मैबैंक संचय बचत बैंक खाता

2

प्रयोजन

ग्राहकों को एक विशेष बचत जमा उत्पाद प्रदान करना

3

खंड

वैयक्तिक खंड

4

योग्यता

केवल निवासी( एकल या संयुक्त)

5

खाता का प्रकार

बचत बैंक खाता

6

खाता खोलने की प्रक्रिया

बचत बैंक खाता को लागू। वर्तमान निर्देशों के अनुसार के वाई सी मानकों का पालन।

7

पर उपलब्ध

बैंक के सभी शाखाओं पर

8

जमा राशि

औसत तिमाही निम्नतम शेष

क)    ग्रामीण शाखाओं के लिए रू.5,000/-

ख)    अर्ध-शहरी एवं शहरी शाखाओं के लिए रू.10,000/-

ग)     मेट्रों शाखाओं के लिए रू.20,000/-

अगर तिमाही शेष राशि नहीं रखी जाती है,तो खाता को सामान्य बचत बैंक खाता में परिवर्तित किया जाता है।मैंबैंक संचय में उपलब्ध सभी मूल्य वर्धित लाभों का आहरण किया जाएगा ।

9

ब्याज की दर

सामान्य बचत बैंक खाता को लागू

10

आयु

10 वर्षों से ऊपर

11

अतिरिक्त विशेषताएँ

i)50 लीफों का चेकबुक नि:शुल्क,

ii)स्टेट बैंक गोल्ड अंतर्राष्ट्रीय डेबिट कार्ड को नि:शुल्क जारी करना,

iii) गोल्ड अंतर्राष्ट्रीय डेबिट कार्ड लेने वाले के लिए रू.5 लाख का नि:शुल्क दुर्घटना बीमा,

iv) ऎसे व्यक्ति जो निम्नतम औसत तिमाही शेष > रू.50,000/-$ रखनेवालों को नि:शुल्क प्लेटिनम अंतर्राष्ट्रीय डेबिट कार्ड,

v) प्लेटिनम अंतर्राष्ट्रीय डेबिट कार्ड रखने वालों के लिए रू 5 लाख का नि:शुल्क दुर्घटना बीमा,

vi) ऎसे लोग जिन्होंनें गोल्ड कार्ड/प्लेटिनम कार्ड नहीं लिया है,उनके लिए रू.1.00 लाख का नि:शुल्क दुर्घटना बीमा,

  1. सभी गोल्ड अंतर्राष्ट्रीय कार्ड लेनदेनों के लिए त्वरित एस एम एस एलर्ट,

 

  1. एस एम एस एलर्ट प्रति तिमाही रू.15/- के शुल्क पर,

 

  1. स्टेट बैंक समूह में असीमित लेनदेन,
  2. शेष प्रमाणपत्र प्रभार(चालू वर्ष)- नि:शुल्क
  3. आर टी जी एस/एन ई एफ टी- नि:शुल्क -2 प्रति माह,
  4. आनलाईन एस बी खातें खोलने का प्रावधान,
  5. अंतर्राष्ट्रीय बैंकिंग सुविधा,
  6. इंटरनेट बैकिंग सुविधा,
  7. मोबाईल बैंकिंग सुविधा,
  8. ई-विवरणी का प्रावधान,
  9. स्टेट बैंक प्लेटिनम अंतर्राष्ट्रीय डेबिट कार्ड के लिए रू.1,00,000/- तथा स्टेट बैंक गोल्ड अंतर्राष्ट्रीय डेबिट कार्ड के लिए रू.50,000/- से ए टी एम पर दैनिक नकद आहरण की अनुमति है।

  • डेबिट कार्ड के जारी होने के पश्चात ही ग्राहकों को बीमा सुरक्षा में आवर्त किया जाएगा।
  • पी ओ एस एवं ऑनलाईन लेनदेन के लिए डेबिट कार्ड का उपयोग करने पर ल्वायलिटी प्वाइंट मिलेंगें।

 

 

शताब्दी अर्थसुलभ सावधि जमा

उत्पाद का नाम शताब्दी अर्थसुलभ  जमा
प्रयोजन हमारे विशिष्ट ग्राहकों को उच्च ब्याज दर के साथ विभिन्न सावधि जमा प्रदान करना ।
खंड सभी खंड
योग्यता निवासी तथा अनिवासी व्यक्ति,संस्थान,कार्पोरेट एवं विद्यालय,नाबालिग को छोडकर ।
खाता का प्रकार सावधि जमा
खाता खोलने की प्रक्रिया सावधि जमा के समान
जमा की  अवधि 7 से 179 दिन    
उपलब्धता बैंक की सभी शाखाओं पर
जमा राशि निम्नतम—रू.15.00लाख ;अधिकतम – रू.50.00 करोड
ब्याज

ब्याज की दर

(20.01.2014)

राशि व अवधि

ब्याज की दर

 

रू.1.00 करोड से रू.50.00 करोड तक

7 दिनों से 90 दिन

8.25

 

रू.1.00 करोड से रू.50.00 करोड तक

91 दिनों से 179दिन

8.00

 

रू.1.00 करोड से रू.50.00 करोड तक के जमाओं के लिए विशेष दर

  • वरिष्ठ नागरिकों  के लिए -अनुप्रयोज्य दर पर अतिरिक्त 0.50%
  • स्टाफ/सेवानि. स्टाफ(वरिष्ठ नागरिक को शामिलकर ) के लिए कोई अतिरिक्त ब्याज नहीं

 

अन्य परिपक्वता से पूर्व आहरण के लिए कोई दंड नहीं,अगर यह 7दिनों से अधिक हो।
दिनांक से उत्पाद उपलब्ध 01/01/13

मैबैंक सुरक्षा बचत प्लस खाता


उत्पाद का नाम

मैबैंक सुरक्षा बचत प्लस खाता

योग्यता

वैयक्तिक,एन आर आई ग्राहकों को छोडकर

परिचालन का माध्यम

एकल या संयुक्त.संयुक्त खाता बीमा आवर्त के मामले में केवल पहले व्यक्ति को शामिल किया जाएगा ।

खाता का प्रकार

बचत बैंक खाता

निम्न तिमाही औसत शेष

25,000/-

ब्याज की दर

बचत बैंक जमा पर अनुप्रयोज्य

नि:शुल्क अनुमति प्रदत्त नामे जमा

छ:माही में 100/-

नि:शुल्क जारी चेक लीफ

प्रति वर्ष नि:शुल्क 25 लीफ ।

नि:शुल्क जारी बहुशहरी चेक

प्रति वर्ष नि:शुल्क 25 लीफ ।

बीमा आवर्त

जमाकर्ता को दुर्घटना मृत्यु के रू.5.00लाख का नि:शुल्क बीमा आवर्त किया जाएगा ।इस लाभ की वार्षिक समीक्षा की जाएगी ।

अन्य शर्तें

सामान्य बचत बैंक जमा की अन्य विशेषतायें जैसे ए टी एम,इंटरनेट,मोबाईल बैंकिंग इत्यादि इस उत्पाद के साथ उपलब्ध रहेंगें ।

वर्तमान बचत बैंक खाता धारक आवेदन करके सुरक्षा बचत प्लस खाते में बदल सकता है ।

बीमा आवर्त/दावा निपटान शर्तों के अनुसार है ।

तिमाही शेष नहीं रखने पर दण्ड लगाया जाएगा ।


सरल बचत बैंक खाता (नो फ्रिल खाता)
यह खाता उनके लिए है, जो हमारी वर्तमान बचत बैंक आवश्यकताओं के कतिपय निबंधनों को पूरा नहीं करते हैं। यह खाता अत्यंत न्यूनतम शेष पर और कम/शून्य प्रभार से आरंभ किया जाता है। विस्तृत विवरण इस प्रकार है :

उद्देश्य : आम जनता को, बिना लागत के, बैंक में खाता खोलने/अनुरक्षित करने में सहायता करना।

पात्रता : 18 वर्षों से ऊपरी आयुवाले वैयक्तिकों को

उपलब्धी : वर्तमान में ग्रामीण शाखाओं में मात्र

प्रारंभिक जमा राशि : रू.10/-

अनुरक्षण हेतु आवश्यक न्यूनतम राशि : शून्य

न्यूनतम शेष/राशि : व्यवसाय मूल्य अन्य देयताओं सहित उत्पाद, जैसे कि आवर्तन जमाराशि या अन्य मीयादी जमाराशि रू.10,000/- से अधिक होने पर, खाते को सामान्य बचत बैंक खाते में उन्नयन किया जाएगा।

ब्याज दर : बचत बैंक खाते के लिए समय समय पर लागू अनुसार
खाते का परिचालन और लागू प्रभार : इस खाते के लिए चेक की सुविधा नहीं है।  आहरण फार्मों के माध्यम से आहरित करना है।

प्रति कैलेंडर महीने में अधिकतम 4 आहरण अनुमेय है। खाते में जमाओं पर कोई प्रतिबंध नहीं है।

खाता खोलने की प्रक्रिया : बचत बैंक खाता खोलने की वर्तमान प्रक्रिया लागू होती है।

क्या ए टी एम कार्ड सुविधा/ स्थाई आदेश/ अतिदेय सुविधा उपलब्ध है? नहीं ।

नामांकन : जमा खाताओं पर लागू अनुसार

बचत बैंक खाताओं से संबंधित अन्य सभी शर्त एवं निबंधनें लागू होती हैं।

एस बी एम कर बचत योजना << ब्यौरों के लिए क्लिक करें

आयकर अधिनियम के अनुच्छेद 80सी के तहत कर बचत योजना :

केंद्र सरकार ने 2006-07 के वित्तीय वर्ष से समयावधि जमा योजना 2006 आरंभ की है जिसमें रू.1.00 लाख तक 5 वर्षों की अवधि की जमा पर अनुच्छेद 80सी के तहत आयकर भुगतान से छूट प्राप्त है।

बहु विकल्पी जमा योजना :
चालू खाता, बचत बैंक खाता, टी डी आर या आर आई डी खाते की विशेषताओं से संबद्ध विशेष जमा योजना। इस उत्पाद से जमाकर्ता को सुविधा और उच्च वापसी सहित तरलता प्रदान करता है। यह योजना जमाकर्ता को चालू खाते में स्वयंचालित अतिदेय सुविधा और बचत बैंक खाते के माध्यम से सावधि जमाराशियों के स्वयंचालित आहरण प्रदान करता है। जमाकर्ता रू.1000/- के लिए टी डी आर/ आर आई डी खाता, रू.500/- शेष सहित बचत बैंक खाता और चालू खाता एक साथ प्रारंभ करना है।

 बचत बैंक खाता :
आय रु.500/- जैसे कम राशि के साथ खाता खोल सकते हैं (चैक पुस्तिका सुविधा के लिए रु.1000/- और चेक पुस्तिका रहित सुविधा के लिए रु.500/-) और प्रति वर्ष 4% ब्याज (दिनांक 03.05.2011) अर्जित कर सकते हैं।

 सावधि जमाराशियां :
एक निर्दिष्ट अवधि के लिए अर्थात् 15 दिनों से 120 महीनों तक एकमुश्त राशि निवेश करें और मासिक (बट्टागत), तिमाही, अर्ध-वार्षिकी या वार्षिकी अंतरालों पर ब्याज प्राप्त करें।

 पुनर्निवेश जमाएं :
निर्धारित अवधि के बाद आपका निवेश और ब्याज लौटाया जाएगा दिया जाएगा। इस पर उच्चतर ब्याज प्राप्त होता है, जिससे आपकी भावी आवश्यकताएँ जैसे कि शादी, आवास निर्माण, बच्चों की शिक्षा आदि में सहायता प्राप्त होती है। जमा अवधि 6 माह से 10 वर्षों की होगी।

 आवर्ती जमाएं :
थोडा सा बचत करें, भारी भरकम पाएं। आवश्यकता पर बडे खर्च सह सकते हैं।  न्यूनतम मासिक किश्त रू.100 और उसके बाद रू.10/-के गुणांक में जमा किया जा सकता है। जमाएं 12 महीनों से 120 महीनों के लिए स्वीकारे जाते हैं।

 हर्षा जमा योजना :
आपकी सुविधानुसार बचत करें। आपके विषम जमाओं के लिए कोई दंड नहीं लगाया जाएगा। आप अपने मूल किश्त के 10 गुणा अधिक भी जमा कर सकते हैं। आय में घटबड रहनेवाले व्यक्तियों और वेतनभोगियों को आकस्मिक खर्च का वहन करने के लिए अच्छी योजना है।

 ब्याज दरें : ब्यौरे के लिए यहां क्लिक करें।

 

र्वजनिक भविष्य निधि (पी पी एफ) योजना

              आवेदन पत्र (पीडीएफ फार्मेट में) डाऊनलोड करें

              संप्रेषण चलान डाऊनलोड करें

दिनांक 01.04.2013 से वार्षिक रूप से लागू अनुसार ब्याज 8.7% है(बशर्तें कि भारत सरकार/भारतीय रिजर्व बैंक के निदेशनों के संशोधनानुसार)

 इस योजना को सार्वजनिक भविष्य निधि(संशोधित) योजना 2011 कहा जाय।

  1. दिनांक 1 दिसंबर 2011 से लागू होता है।
  2. सार्वजनिक भविष्य निधि अधिनियम 1968 के उपबंधों के तहत रूपित केंद्रीय सरकार के सांविधिक योजना है।
  3. भारतीय स्टेट बैंक या सहवर्ती बैंक के किसी भी शाखा में खाता खोला जा सकता है।(एकल अधिकारी/लिपिक द्वारा प्रबंध अधिकारियों को छोडकर या किसी पधान डाकघर या अन्य चयीत श्रेणी के उप डाकघर याअ किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंको में खाता खोला जा सकता है।
  4. किसी व्यक्ति अपने स्वयं के मान पर सार्वजनिक भविष्य निधि  खाता खोला जा सकता है।  वह किसी नाबालिग जिसके अभिरक्षक है के पक्ष में भी अतिरिक्त खाता खोल सकता है।  अपने प्रति  500/- से कम  1,00,000/-  के गुणांकों से अधिक न होते हुए राशि चंदा दे सकता है।  योजना के  उद्देश्य से एक वर्ष का अर्थ है वित्तीय वर्ष (1 अप्रैल से 31 मार्च)  बैंक के दौरान किये गये 1,00,000/-  से अधिक जमाराशियों पर कोई ब्याज नहीं दिया जाता है और रिबेट के लिए पात्र नहीं हैं।
  5. जिनके सामान्य भविष्य निधि या कर्मचारी भविष्य निधि खाता  व सार्वजनिक भविष्य निधि खाता खोल सकते हैं।
  6. किसी व्यक्ति या तो डाकघर में या बैंक से अपने नाम मे एक खाता खोल सकते हैं।  गलती से चंदादार द्वारा स्वयं के नाम पर दो खाताएं खोली जाती है।  दूसरी खाता का अनियमित  माना जाता है ब्याज का वहन नहीं करता है।
  7. चंदा 12 किस्तों से अधिक न होते हुए एकमुश्त में या सुविधाजनक किस्तों में जमा की जा सकती है।
  8. वर्ष के प्रति महीने चंदा जमा करने की आवश्यकता नहीं हैं।  चंदा की राशि को चंचादार की सुविधानुसार अधिक कम कर सकते हैं।

10.  चंदादार के अनुरोध पर काता भारतीय स्टेट बैंक  या उसके सहवर्ती वैंकों में अंतरित किया जा सकता है।

11.  खाता 15  संपूर्ण वित्तीय वर्षों के बाद में या मूल रूप में चंदा दिए वित्तीय वर्ष के समापन के 15 वर्षों के समाप्त होते ही खाता बंद किया जा सकता है।  यह वैकल्पिक है और चंदादार “एच” फार्म में विकल्प का प्रयोग करते हुए आगे किसी भी संख्या 5  वर्षों के ब्लाक के लिए 15  वर्षों की अवधि के बाद खाता जारी रख सकते है।

12.  चंचादार आवश्यकता पर निधि से ऋण ले सकता है।  प्रथम ऋण खाता खोलने  के तीसरे वर्ष में लिया जा सकता है, अर्थात वर्ष 1997-98 के दौरान खाता खोला जाता है। प्रथम ऋण 1999-2000 वर्ष के दौरान लिया जा सकता है।  ऋण की राशि दि.31.3.1998 तक खता में वर्ष 1997-98 के लिए ब्याज को शामिलकर बकाये के 25% तक प्रतिबंधित किया जाता है।

13.  चंदादार किसी एक वर्ष में एक आहरण कर सकता है।  प्रथम आहरण मूल रूप से चंदा दिए वर्षांत से 5 संपूर्ण वित्तीय वर्ष समाप्त होने के बद किसी भी समय में किया जा सकता है।(अर्थात 7ईं वर्ष के बाद)।  आहरण की राशि 4 वर्षांत तक पूर्ववर्ती वर्ष जिसमें राशि आहरित की गई या पूर्ववर्ती वर्षांत तक जो भी कम हो जमा में रहे शेष में 50% तक सीमित किया जाता है।  उदाहरण स्वरूप, यदि खाता 1993-94 में खोला गया है और प्रथम आहरण 1999-2000 में किया गया है, दि.31.3.1996 तक बकाया के 50% तक आहरण की राशि सीमित कर दिया जाएगा या दि.31.03.1999 जो भी कम है।  ऋण की राशि से कम यदि आहरित है और पुनर्भुगतान हेतु बाकी है।  आहरण की राशि पुनर्देय नहीं है।  दि. 31.3.1996 या दि.31.03.1999 अक शेष में संदर्भानुसार वर्ष  1995-1996 या 1998-1999 तक शामिल कर दिया जाएगा।

14.  चंदादार अपनी मृत्यु के संदर्भ में अपनी जमा में रहे राशि को प्राप्त करने के लिए एक या अधिक व्यक्तियों को नामित कर सकता है।  नाबालिग के पक्ष में खोली गई खाता के संदर्भ में कोई नामांकन नहीं किया जा सकता है।  चंदादार की मृत्यु के संदर्भ में उसके जमा में रहे राशि को संदर्भानुसार उसकी नमिति या कानूनन वारिस को 15 वर्ष समाप्त होने से पहले ही पुनर्भुगतान की जायेगी।

15.  सार्वजनिक भविष्य निधि को दिए गए चंदा आयकर उद्देश्य के लिए चंदादार को कराघात आय से कटौती के लिए अर्ह है जैसे कि भविष्य निधि, जीवन बीमा इत्यादि को अंशदान।

16.  निधि को जमा की गई राशि आयकर से संपर्ण रूप से मुक्त है।

17.  निदि में च्म्चादार की जमा के बाकि रहे राशि संपार्श्विक कर से संपूर्ण रूप से छूट है।

18.  खाता कार्यालय (भारतीय स्टेट बैंक के कार्यालय और उसके सहवर्ती को शामिलकर) चंदा के बकाये सहित निर्धारित शुल्क को प्रभारित करने दे द्वारा पी पी एफ खाता में चंदा की भुगतान के भूल-चूक को माफ कर सकता है।

19.  पी पी एफ खाता एक व्यक्ति से दूसरे में अंतरनीय नहीं है।  चंदादार की मृत्यु के संदर्भ में नामिति, मृत चंचादार का खाता नहीं रख सकता है।

20.  पी पी एफ खाता संयुक्त नामों में खोला नही जा सकता है।  आगे इस प्रकार के खाते नकली/न्यायिक व्यक्तियों से खोला नहीं जा सकता है।

21.  पी पी एफ खाते में शेष किसी भी प्रकर के ऋण या अन्य़ देयता के संबंध में न्यायालय में डिक्री या किसी आदेश के तहत कुर्क के शर्तानुसार नहीं है।(आयकर/एस्टेट शुल्क चंदादार की देयता को छोडकर)

22.  यदि चंदादार की मृत्यु होती है और मृत्यु के समय कोई नामांकन नहीं है, खाता में एक लाख तक बकया हैं, तो लेखा कार्यालय द्वारा उनके साथ सहायक दस्तावेज संलग्नित किया गया है, तो उत्तराधिकारी प्रमाण पत्र प्रेषित किए जाने पर भुगतान की जायेगी।

23.  किसी कारणवश खाता में चंदा देना बीच में छोड देते हैं तो समाप्त खाता माना जा सकता है।  खाता परिपक्वता के बाद ब्याज अर्जित करता है।  इस प्रकार के खाते में ऋण या आहरण की अनुमति नहीं दी जा सकती है।  खाता को प्रति वित्तीय वर्ष में  50/- के दंड  और प्रति वित्तीय वर्ष में 500/- प्रेषित कर खाता नियमित किया जा सकता है।  दंड  की राशि भारत सरकार/भारतीय रिजर्व बैंक  को  जमा करना चाहिए।

24.  नाबालिग के खाते से आहरण करना है तो  आहरण के लिए अभिरक्षक नीचे दर्शाये प्रमाण पत्र  का आवेदन  देना है:

“यह प्रमाणित किया जाता है कि आहरण के लिए मांग की गई राशि _________________ के उपयोग के लिए अपेक्षित है, जो जिंदा है और अभी भी नाबालिग है”।

25.  खाता नाबालिग के नाम में खोला गया है और नाबालिग खाता परिपक्व होने से पहले वयस्क बनता है, पूर्व नाबालिग अपने आप खाता जारी रख सकता है।  वह खाता खोलने के लिए लेखा कार्यालय को संशोधित आवेदन फार्म प्रेषित करेगा।  आवेदन पत्र पर उसका हस्ताक्षर नाबालिग के खाता खोलनेवाला अभिरक्षक या शाखा को जानकर गौरवान्वित व्यक्ति द्वारा साक्ष्यांकन  किया जायेगा।

26.  फिलहाल वित्तीय वर्ष में केंद्रीय सरकार द्वारा वैयक्तिक स्व खाता और नाबालिग के पक्ष में खोली गई खाताओं  के अभिरक्षक को कुल मिलाकर जमाराशियों पर समय समय पर जारी निर्धारित सीमा 1,00,000/- है।

 

स्टेट बैंक ऑफ मैसूर की अपनी नजदीक की शाखा से संपर्क करें या

मुख्य प्रबंधक

सरकारी व्यवसाय विभाग

प्र.का. के.जी.रोड, बेंगलुर-560009, भारत

दूरभाष : 91 80 22353901 से 22353909 तक 22353473.  विस्तरण.380

91 80 22353467  फ्याक्स : 91 80 22283684

E-mail : This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it

 

 

 
You are here: होम जमाएं