State Bank of Mysore

Trusted Service

कृषि योजनाएं

किसान स्वर्ण कार्ड योजना

किसान ऋण कार्ड योजना

ग्रामीण भंडारण योजना

संयुक्त कटाई योजना

किसान चक्र योजना

कृषि चिकित्सालय एवं कृषि व्यवसाय केंद्र (कृ.बैं. प.सं.10 दिनांक 30.08.2001)

सिंचाई के लिए सोलार फोटो वोल्टायिक पंपसेट

कृषि हेतु भूमि खरीदी योजना

वेनिला विकास हेतु योजना

जैविक उर्वरक इकाई स्थापना हेतु योजना

उत्पाद विपणन ऋण (पीएमएल)

ड्रिप सिंचाई

सिडकाऊ सिंचाई

कृषि मशिनीकरण - एसबीएम कृषि योजना

स्वर्ण मित्रा योजना

मै कृषिजेन

खीरा (गॉकिन) - उपजाऊ योजना

ग्रामीण क्षेत्रों में एल पी जी संपर्क के वित्तीयन हेतु योजना

किरायेदार कृषकों एवं मौखिक पट्टेदारों के वित्तीयन हेतु योजना

अनुसूचित जाति/ अनुसूचित जनजाति कृषकों को वर्षाजल योजना

जत्रोपा वृक्षारोपण के वित्तीयन हेतु योजना

पटचौली की खेती के वित्तीयन हेतु योजना

सामान्य क्रेडिट कार्ड

कृषि योजनाओं के ब्याज दरों के लिए यहां क्लिक करें।


किसान स्वर्ण कार्ड योजना

उद्देश्य
कृषि उपकरण, बैल और बैलगाडी, भूविकास, कृषि उपकरणों की मरम्मत आदि के लिए और कृषकों की उपभोक्ता कार्य जैसा कि शिक्षा, शादी आदि के लिए उपयोगी है।

पात्रता
कृषि भूमि का लिहाजा किए बिना, किसान अपने एसीसी /एटीएल खातों के तीन वर्षों का उत्कृष्ट पुनर्भुगतान रेकार्ड रखना चाहिए।  

ऋण की मात्रा

  • वार्षिक आय का पांच गुणा या संपार्श्विकी प्रतिभूति के रूप में दी गयी भूमी मूल्य के 50%, जो भी कम हो अधिकतम दस लाख दिया जाएगा।  
  • उपभोक्ता उद्देश्य के लिए ऋण का उपयोग कुल सीमा के 50% से अधिक नहीं होना चाहिए।

मार्जिन
20% और 30% (उपभोक्ता उद्देश्य के लिए)

ब्याज
कृषि मियादी ऋण पर लागू दर के अनुसार

पुनर्भुगतान
प्रत्येक ऋण के लिए  पृथक   स्वपुनर्भुगतान अवधि निर्धारित होगी।  पुनर्भुगतान अवधि अधिकतम 6 से 7 वर्ष होगी।  

अन्य निबंधनें
यह सुविधा केसीसी सीमा के अतिरिक्त होगी और एटीएल खाता समझा जाएगा (अधिकतम 5 खाताएं), उपभोक्ता उद्देश्य के लिए एटीएल को बेजमानती ऋण माना जाएगा।

कृषि सूची को वापस


किसान ऋण कार्ड योजना

उद्देश्य
समय पर नकद उधार और किसानों की उपभोक्ता आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए ऋण।

पात्रता

  • सभी किसान

ऋण राशि की मात्रा

  • पूरे वर्ष के लिए संपूर्ण फसल उत्पादन आवश्यकता को, उनके पास रही कृषिकीय भूमि, उगाये जानेवाले फसल और वित्तीय मान के आधार पर निर्धारित किया जाएगा।  
  • फसल उत्पादन में सहायक कार्य, जैसे कि कृषि उपकरणों का अनुरक्षण, विद्युत प्रभार को भी ध्यान में रखा जाएगा।
  • ऋण सीमा की 20% राशि को आकस्मिकताओं जैसा कि चिकित्सा, शिक्षा, विवाह, अंतिम संस्कार, जन्म आदि विभिन्न सामाजिक कार्य के लिए।

आहरण अधिकार
ऋण आवश्यकता के अनुसार, नकद प्रवाह/पुनर्भुगतान के आधार पर आवश्यक संदर्भ में उचित आहरण निर्धारित किया जाएगा।

पुनर्भुगतान
केसीसी वार्षिक समीक्षा के आधार पर अधिकतम 3 वर्षों के लिए पुनरावर्ती नकद ऋण सीमा के रूप में होगी।  पुनर्भुगतान कटाई और विपणन के साथ मेल खाता है।  सीमा के भीतर अनगिनत बार आहरण/पुनर्भुगतान अनुमत है।

क्रेडिट कार्ड
क्रेडिट कार्ड एवं पास बुक किसान उधारकर्ताओं को दिया जाएगा।

आहरण विधि
आहरण पर्ची द्वारा

अन्य शर्तें  :
कृषि अग्रिम को लागू अनुसार

कृषि सूची को वापस


ग्रामीण भंडारण योजना (जी बी वाई)    
उद्देश्य
कटाई के तुरंत बाद किसानों द्वारा त्वरित बिक्री से बचने के लिए फार्म उत्पादों के संग्रहण हेतु ग्रामीण गोदाम का निर्माण।

योग्यता
वैयक्तिक किसान/ कंपनी समूह/ भागीदारी फार्म, स्व-सहायता समूह, गैर-सरकारी संगठन, सहकारी, कृषि आधारित सहकारी समिति, विपणन बोर्ड एवं कृषि प्रक्रिया निगम।

इकाई का आकार/ लागत

  • गोदाम का निम्नतम आकार 100 मेट्रिक टन जिसकी लागत रू. दो लाख हो,
  • गोदाम का अधिकतम 10,000 मेट्रिक टन जिसकी लागत रू. 150 लाख हो,

आर्थिक सहायता

  • आर्थिक सहायता का अंतिम भाग एवं नाबार्ड द्वारा दो किस्तों में जारी किया जाता है।
  • कुछ विशेष श्रेणी के उधारकर्ताओं के लिए परियोजना के पूंजी लागत का 25%, जिसकी अधिकतम राशि रू.37.50 लाख है।
  • कुछ श्रेणी के उधारकर्ताओं के लिए अधिकतम राशि रू.50 लाख की परियोजना के पूंजी लागत का 33% है।

संयुक्त कटाई योजना

उद्देश्य:
किसानों को समय पर चावल, गेंहू, सोयाबीन फसल की कटाई/ खलिहान और फटकन काम पूरा करने, मजदूर प्रभारों में मितव्ययता और किरायेदार सेवा के माध्यम से लाभदायक आय हेतु संयुक्त कटाईकर्ता किसानों को इकट्ठा करने में समर्थ बनाना।

पात्रता

  • किसान, व्यक्ति और सह-मालिक जो भूमि जोतते हैं (कम से कम 8 एकड 3 सिंचित भूमि; और भूमि के अन्य प्रकारों के लिए तदनुरुपि एकड)
  • कृषकेतर उद्यमी किरायेदार प्रथागत काम के लिए संयुक्त कटाईकर्ताओं की सेवाएं प्राप्त करना।

ऋण की मात्रा
उपस्करों सहित संयुक्त कटाइकारों के लागत के 90%

मार्जिन
उपस्करों सहित संयुक्त कटाईकार लागत के 10%

कंबैन्स का लागत

  • लगभग रू.14 लाखों का स्व निर्मित मशीनरी ट्राक (सेल्फ प्रोपेल्ड ट्राक वर्शन)
  • करीबन 9 लाखों का स्व निर्मित मशीनरी ट्राक (सेल्फ प्रोपेल्ड ट्राक वर्शन)
  • ट्राक्टर माऊंटेड पहिचेवाला करीबन रू.3.30 लाख माडल। 

योजना और अन्य बातों के आधार पर लागत बदलता है।

बीमा
कंबैन्स को संपूर्ण रूप से सभी जोखिमों के प्रति अपनी लागत का बीमा कराना चाहिए।  पालिसी बैंक के पक्ष में कराना चाहिए।  आर.टी.ओ. – कंबैन्स, आर टी ओ के साथ पंजीकृत करना है और बैंक का चार्ज नोट आर टी ओ और पंजीकरण बही में दर्ज करना है।

पुनर्भुगतान
5 वर्ष

ब्याज
13.00%

अन्य शर्तें
सी एफ एम टी टी आई, बुदनी, म.प्र, एफ एम टी टी आई हिस्सार द्वारा परीक्षित कंबैनों के माडल मात्र बी आई एस कूट आई एस: 9164:1979 के लिए पात्र है।


किसान चक्र योजना
उद्देश्य
वाहन की खरीद क्रमशः कृषि परिचालन हेतु दुपहिया, चौपहिया वाहक वैन, मैक्सी कैब, जीप, कार, लॉरी, ट्रक इत्यदि/ फार्म का प्रबंधन/ कृषि उत्पादों के परिवहन हेतु

पात्रता

  • ऐसे कृषक जो अपने खेतों की जुताई में संलठ है या डेयरी, मुर्गी पालन,  रेशम उत्पादन, मत्स्य-पालन इत्यादि में।
  • कृषि एवं सहायक उपकरणों के उत्पाद/वितरण में जुडा हुआ व्यक्ति।

ऋण की प्रमात्रा
इस योजना हेतु रू.5 लाख की अधिकतम सीमा निर्धारित की गयी है।

मार्जिन
15-25% (एम सी वी/ ए सी वी का निम्नतम 25%)

ब्याज
कृषि मियादी ऋण के समान।

पुनर्भुगतान
आय उत्पादन पर आधारित, 3-5 वर्षों तक, मासिक/तिमाही/अर्ध-वार्षिक।


स्टेट बैंक ऑफ मैसूर की नजदीकी शाखा से संपर्क करें या
श्री एम.शंकरन
मुख्य प्रबंधक
स्टेट बैंक ऑफ मैसूर
कृषि बैंकिंग विभाग

प्रधान कार्यालय, के.जी.रोड, बेंगलूर - 560009, भारत
फोन: 9180 22353901 से 22353909; 22353473 विस्तरण 375; 22353460
फ्याक्स: 91 80 22283684
ई-मेल: This e-mail address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it
 
You are here: होम अग्रिम कृषि योजनाएं